Connect with us
#Eid Shayari

जमाअत है हुस्न-ए-इबादत मगर, जो दिल से न हो वो इबादत नहीं