Connect with us
#Shayari

कितनी मुश्किलों से फलक पे आता है ईद के चाँद ने भी अंदाज़ तुम्हारे सीखे

#Shayari

तेरी ख्वाहिश बस तेरी उम्मीद करता है कोई देख कर तुझको मेरी जान, ईद करता है कोई

#Shayari

ईद का दिन है गले आज तो मिल ले ज़ालिम रस्मे दुनिया भी है, मौका भी है, दस्तूर भी है

#Shayari

मोहब्बत में हम तो जिए हैं जिएंगे वो होंगे कोई और मर जाने वाले

#Shayari

जमाअत है हुस्न-ए-इबादत मगर जो दिल से न हो वो इबादत नहीं

#Shayari

سناتے تھک گیا ہوں دا ستان غم زمانے کو کسی سے کچھ بتانے کے لئے اب دل نہیں کرتا

#Shayari

حسن آفت نہیں تو پھر کیا ہے تو قیامت نہیں تو پھر کیا ہے